Home / Rajasthan / राजस्थान किसान लोन स्कीम-कृषि उपज रहन ऋण योजना|ऑनलाइन आवेदन

राजस्थान किसान लोन स्कीम-कृषि उपज रहन ऋण योजना|ऑनलाइन आवेदन

राजस्थान किसान लोन स्कीम-कृषि उपज रहन ऋण योजना|ऑनलाइन आवेदन|किसान लोन स्कीम|कृषि उपज रहन ऋण योजना|राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना|

 राजस्थान में, एक ओर, किसान अपनी मांगों के लिए सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं, जबकि सरकार समय-समय पर उनके लिए राहत भी दे रही है। इस बीच, सरकार ने एक बार फिर किसानों को राहत दे दी है। वास्तव में, सरकार अब किसानों के उत्पाद के लिए सही कीमत दे सकती है और मजबूरी में उन्हें उपज बेचने और उन्हें बनियों या बिचौलियों को अपने उत्पाद नहीं बेचने में मदद कर रही है। इसके लिए, कृषि उपज रहन ऋण योजना राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई है।

राजस्थान की राज्य सरकार ने किसानों के लिए एक नयी योजना जिसका नाम कृषि उपज रहन ऋण योजना है शुरू की है। कृषि उपज रहन ऋण योजना का मुख्या उद्देश्य राज्य में किसानों को अपने कृषि उत्पाद का उचित मूल्य प्रदान करना है।कृषि उपज रहन ऋण योजना के अंतर्गत सरकार छोटे और सीमांत किसानों को 1.5 लाख रुपए अपने उपज जमा करने पर और बड़े पैमाने वाले किसानों को 3 लाख रुपये तक का ऋण 11 प्रतिशत ब्याज दर पर प्रदान किया जायेगा। इस योजना का उद्देश्य किसानों को छोटी अवधि के लिए ऋण प्रदान करना है जिससे की वो अपनी अति आवश्यक जरूरतों को पूरा कर सकें।

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना

राजस्थान किसान लोन स्कीम कृषि उपज रहन ऋण योजना के तहत अल्पावधि ऋण 90 दिन तक प्रदान किया जाएगा लेकिन विशेष परिस्थितियों में इसे छह महीने तक बढ़ाया भी जा सकता है। इसके अलावा समय पर ऋण चुकाने वाले किसानों को ब्याज पर 2 प्रतिशत की छूट भी मिलेगी। इस योजना का इरादा किसानों के परिवार की तत्काल जरूरतों को पूरा करना है।राज्य सरकार छोटे और सीमांत किसानों सहित अधिक किसानों को वित्तीय समावेश के तहत लाने के लिए कई उपाय कर रही है।

किसानों को उनके द्वारा रखे गए उत्पाद के बाजार में मूल्य के आधार पर मूल्यांकन किया जाएगा जो भी कम है और मूल्यांकन की 70 प्रतिशत राशि ऋण के रूप में उपलब्ध कराई जायेगी।चूंकि किसानों की कोई नियमित मासिक आय नहीं है, इसलिए सरकार संकट की स्थिति में किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए कई पहल कर रही है। कृषि उपज रहन ऋण योजना के अंतर्गत राज्य सरकार ऋण पर ब्याज सब्सिडी प्रदान करेगी ताकि राज्य के किसानों को बेहतर जीवन प्रदान किया जा सके|

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना की मुख्य विशेषताएं

  • पुनर्भुगतान पर छूट राज्य सरकार ने यह भी घोषित किया है कि जो किसान समय पर ऋण चुकाने मे समर्थ होंगे उन्हे ब्याज दर मे 2% की छूट प्राप्त होगी।
  • लैंप और जीएसएस यह योजना किसानों को भी लाभ प्रदान करेगी जो पहले से ही GSS और एलएपीएमएस के तहत पंजीकृत हैं।
  • वर्गीकरण किसानों का वर्गीकरण ऑडिट के आधार पर किया जाएगा। ऑडिट नियमित रूप से जानकारी के आधार पर किया जायेगा और किसानों को ए और बी के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा।
  • अधिशेष संसाधन उपर्युक्त बिंदुओं के अलावा, यह योजना अधिशेष संसाधनों की उपलब्धता को आश्वस्त करेगी।
  • बाजार मूल्य बिंदु की बैठक उन किसानों को ऋण प्रदान किया जाएगा, जो कि बाजार सेबिक्री से लाभ प्राप्त करने में असमर्थ हैं|

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना के लाभ

  • इस योजना के तहत किसान 3 लाख रुपये तक ऋण प्राप्त कर सकते हैं।
  • परिभाषित समय में पूरा होने पर ऋण पर 2% ब्याज में छूट।
  • ऋण दिया जाएगा जो बाजार की कीमत से मिलेंगे ताकि किसान उत्पादित उत्पाद पर लाभ उठा सकें
  • इस योजना को नियमित लेखा परीक्षा के आधार पर ए और बी खंड में वर्गीकृत किया जाएगा।
  • एनपीए 10% से कम होना चाहिए।
  • संसाधन अधिशेष में उपलब्ध हैं।
  • जीएसएस और लैंप योजना में नामांकित किसान कृषि उपज रहन ऋण योजना के लिए पात्र हैं।

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना के लिए पात्रता

  • आवेदक राजस्थान राज्य का निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक किसानों का एनपीए का लाभ 10% से कम होना चाहिए।
  • बैंक खाता अनिवार्य है।

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना  ऑनलाइन आवेदन

इस योजना ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करें

दोस्तों आपको राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण  योजना ऑनलाइन आवेदन किस प्रकार कि  लगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं  इससे संबंधित प्रश्न पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरुर देंगे| आप हमारे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर कर सकते हैं|

 

About Vivek Dutta

Check Also

[शिकायत पंजीकरण] राजस्थान जनसुनवाई योजना

राजस्थान जनसुनवाई योजना|मुख्यमंत्री जनसुनवाई राजस्थान|जनसुनवाई योजना राजस्थान| राजस्थान के प्यारे देशवासियों जैसा की आप जानते हैं राजस्थान भारत का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!